मड़ावग (Madawag Village) है एशिया का सबसे अमीर गांव, हर साल बिकते हैं 150 करोड़ के सेब

पत्रिका न्यूज़, शिमला. हिमाचल प्रदेश खूबसूरत वादियों और पर्यटन के लिए ही बल्कि सेब के उत्पादन के लिए भी जाना जाता है। यहां का सेब दुनिया भर में विख्यात है। यहां एक ऐसा गांव भी है जहां हर परिवार सेब से अच्छी खासी कमाई करके करोड़पति बन गया है। जी हां शिमला में स्थित चौपाल के मड़ावग गांव (Richest Village Madawag) में रहने वाले हर परिवार के लोग करोड़पति हैं। 

मड़ावग गांव के लोग सालाना 150 करोड़ रुपए के सेब बेच देते हैं। यहां सेब के सर्वोत्तम वराइटी की अच्छी पैदावार होती है जिसकी बदोलत इस गांव का सेब अन्य के मुकाबले महंगा बिकता है। हालांकि प्रतिवर्ष सेब से कमाई कम व ज्यादा होना सेब की फसल और रेट पर निर्भर रहता है लेकिन यहां प्रत्येक परिवार की सालाना औसतन आय 35-80 लाख रुपए के मध्य होती है।

मड़ावग (Madawag Village) है एशिया का सबसे अमीर गांव
मड़ावग (Madawag Village) है एशिया का सबसे अमीर गांव

इसे भी पढ़ें: पूर्व मुख्य सचिव राम दास धीमान बने सूचना आयुक्त, राजभवन में ली शपथ

शिमला मुख्यालय से करीब 90 किलोमीटर दूर मडावग का सेब विदेशों में काफी पसंद किया जाता है, इस वजह से यहां का सेब हाथों हाथ बिक रहा है। यहां का सेब हिमाचल के सबसे मशहूर सेब किन्नौर के सेब को टक्कर दे रहा है। आपकी जानकारी के लिए बता दें इससे पहले सेब की अच्छी क्वालिटी के लिए शिमला का एक अन्य गांव भी चर्चा में रहा था। जहां हर परिवार पैसों के मामले में करोड़पति हैं। इस गांव का नाऊ क्यारी है‌।