Uttarakhand

उत्तरकाशी: बोल्डर की चपेट में आने से महिला की मौत, एक हायर सेंटर रेफर

उत्तराखंड के अलग-अलग क्षेत्रों में भूस्खलन एक बड़ी समस्या बन गया है। पहाड़ी क्षेत्रों में भूस्खलन, पहाड़ों से बड़े-बडे़ बोल्डर आने की वजह से आवागमन बाधित हो रहा है।‌ हाल में गौरीकुंड में हुए भूस्खलन की वजह से करीब 20 लोग लापता हो गए थे, जिनमें से केवल 3 लोगों एक शव बरामद हो सके। वहीं उत्तरकाशी में बोल्डर की चपेट में आने से एक महिला की मौत हो गई तथा एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया है।

यह भी पढ़ें- उत्तरकाशी: सड़क हादसे में सामाजिक कार्यकर्ता संदीप उनियाल समेत दो लोगों की मौत

बता दें कि उत्तरकाशी जिले के यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर डाबरकोट जोन मुसीबत बन गया है। भूस्खलन जोन में पहाड़ी से मलबा और बोल्डर गिरने का सिलसिला बंद नहीं हो रहा है। बुधवार सुबह राजमार्ग पर गुजर रही बस इन बोल्डर के चपेट में आ गई और बस में बैठी एक महिला मौत हो गई। जानकारी के अनुसार बुधवार सुबह करीब जानकीचट्टी से बड़कोट की ओर आ रही बस डबरकोट के पास पहाड़ी से गिरे पत्थरों की चपेट में आ गई।

पहाड़ से गिरे बोल्डर बस की खिड़की तोड़ते हुए अंदर घुसे, जिससे दो तीर्थ यात्री चोटिल हो गए। 108 सेवा की मदद से घायलों को CHC बड़कोट में लाया गया जहां महाराष्ट्र निवासी तीस वर्षीय महिला यात्री पायल ने बड़कोट सीएचसी में दम तोड दिया और घायल कृष्ण सिंह धबानी को हायर सेंटर देहरादून रेफर कर दिया।

 

Related Articles