Uttarakhand

धामी सरकार की ईंधन सखी योजना से महिलाओं की होगी कमाई, जाने कैसे

महिलाओं को समृद्ध बनाने के लिए उत्तराखंड की धामी सरकार एक के बाद एक योजनाएं लागू कर रही है। फिर चाहे वह लखपति दीदी योजना हो यह अब ईंधन सखी योजना। इस योजना से सरकार गृहणियों की समस्याओं का सामाधान तो कर रही है वहीं इस योजना के जरिए महिलाओं की आय भी बढ सकेगी।

ईधन सखी योजना

दरअसल उत्तराखंड के दूरस्थ पहाड़ी क्षेत्रों में रसोई गैस रिफिल करने की काफी समस्याएं होती हैं जिसे दूर करने के लिए धामी सरकार ने ईंधन सखी योजना शुरू की है। जिसके अंतर्गत राज्य सरकार मिनी गैस एजेंसी के जरिए रसोई गैस रिफिल करने की समस्या को दूर करेगी। इस योजना की खास बात यह है कि मिनी गैस एजेंसी का संचालन स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाएं करेंगी।

यह भी पढ़ें- उत्तरकाशी: 5000 से अधिक राशन कार्ड होंगे निरस्त, ये है वजह..

बताते चलें कि उत्तराखंड सरकार ने 4 जिलों में पायलट प्रोजेक्ट की शुरुआत कर दी है। जिसे लिए सरकार ने HP कंपनी से करार किया है। कंपनी की ओर से महिलाओं को मिनी गैस एजेंसी संचालक की ट्रेनिंग दी जाएगी। अभी तक हरिद्वार की 6, टिहरी की 16 और उत्तरकाशी की 40 ईंधन सखी तैयार हो चुकी है। ग्राम विकास विभाग द्वारा मिनी गैस योजना की शुरुआत की गई है जिसका उद्देश्य स्वयं सहायता समूह की महिलाओं की आय बढ़ाना और सुदूरवर्ती क्षेत्रों में आसानी से गैस पहुंचाना है। जल्द ही यह योजना अन्य जिलों में भी शुरू कि जाएगी।

अपर सचिव एवं आयुक्त ग्राम्य विकास विभाग, आनंद स्वरूप ने बताया कि मिनी गैस एजेंसी में हर समय पांच भरे सिलेंडर उपलब्ध रहेंगे और कंपनी की ओर से हर सिलेंडर पर 20 रुपए तक कमीशन मिलेगा। इस अलावा गांव गांव में प्रचार-प्रसार के लिए 1000 रुपए अलग से मिलेंगे, साथ ही बर्नर, चूल्हा, इसकी सर्विस, गैस पाइप, नए कनेक्शन देने, डीबीसी कनेक्शन पर भी कंपनी की ओर से कमीशन दिया जाएगा।

Related Articles